v डेंगू व चिकनगुनिया के मच्छरों पर गूगल लगाएगा लगाम | Stillunfold

डेंगू व चिकनगुनिया के मच्छरों पर गूगल लगाएगा लगाम

यहाँ हम आपको एक ऐसी खबर देने वाले है। जिसे सुनकर आ...

3 years ago
डेंगू व चिकनगुनिया के मच्छरों पर गूगल लगाएगा लगाम

यहाँ हम आपको एक ऐसी खबर देने वाले है। जिसे सुनकर आपके होश उड़ जायेंगे। टेक्नोलॉजी कंपनियां ऑटोमेशन और रोबोटिक्स टेक्नोलॉजी की मदद से मच्छरों से होने वाली बीमारियों जैसे डेंगू, जिका और मलेरिया आदि से निजात दिलाने के लिए उपाय क्जोज रही है।

माइक्रोसॉफ्ट कॉर्प व गूगल की स्टार्टअप कंपनी अल्फाबेट जैसी कंपनियों के लाइफ साइंसेज डिवीजन यूएस के पब्लिक हेल्थ ऑफिशल्स के साथ मिलकर नए हाई-टेक टूल्स का निर्माण कर रहे हैं। माइक्रोसॉफ्ट एडीज एजिप्टी मच्छरों को पकडऩे के एक स्मार्ट ट्रैप पर काम कर रहा है। पिंजरे के आकार के इस डिवाइस में रोबोटिक्स, इंफ्रारेड सेंसरों, मशीन लर्निंग व क्लाउड कम्प्यूटिंग की मदद ली जाएगी। इससे स्वास्थ्य अधिकारी मच्छरों पर नजर रख पाएंगे।

यह डिवाइस हर प्रकार के कीटो को अलग फीचर और उनके पंख के फडफ़ड़ाने पर पडऩे वाली परछाईं से उनको पहचान लेगी। जब यह ट्रैप एडीज ऐजिप्टी मच्छर को अपने 64 चैम्बरों में से एक चैम्बर में पहचानेंगी, तो उसका दरवाज़ा तुरंत बंद हो जाएगा।

Source = Kadarka

इस डिवाइस को डेवेलोप करने वाले माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के इंजीनियर ईथन जैक्सन ने बताया कि इस डिवाइस की टेस्टिंग में सामने आया कि यह ट्रैप एडीज एजिप्टी और दूसरे मच्छरों को 85 प्रतिशत सटीकता से पकड़ सकती है। इन डिवाइस के अभी सिर्फ प्रोटोटाइप्स बने है। यह डिवाइस हायर टेम्परेचर और नमी के माहौल में भी डाटा को रिकॉर्ड कर सकता है। इस डिवाइस की मदद से ऐसा मॉडल बनाया जा सकता है कि कब और कहां मच्छर ज्यादा सक्रिय रहते हैं।

गूगल की यह योजना मशीन जनित 2 करोड़ ऐसे मच्छर पैदा करने वाली है, जो मच्छरों की आबादी रोकने में मदद करेगी। वाशिंगटन पोस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक, योजना के अनुसार कैलिफोर्निया के फ्रेस्नो काउंटी में लाखों की संख्या में बंध्या नर मच्छर छोड़े जाएंगे। यह नर मच्छर जब प्रकृति में मौजूद मादा मच्छरों से संसर्ग करेंगे, तो उसके बाद मादा मच्छर जो अंडे देंगी, उनसे बच्चे विकसित नहीं होंगे।   

रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी ने फ्रेस्नो काउंटी के आसपास स्थित दो इलाकों में 20 सप्ताह में 10 लाख ऐसे नर बंध्या मच्छरों को छोड़ने की योजना बनाई है,जो काटते नहीं है। रिपोर्ट के अनुसार, बंध्या नर मच्छरों को पैदा करने के लिए उन्हें वोलबचिया बैक्टीरिया से संक्रमित किया जाएगा। वोलबचिया एक तरह का जीवाणु है जो प्राकृतिक तौर पर 40 फीसदी कीटों में पाया जाता है।

Comment